मोहब्‍बत ओर जिन्‍दगी

कोइ मत आन उस और, जहांं मौहब्‍बत के फूल खिला करते है ।
क्‍योंकि ये जीवन में एक बार खिला करते है ।।
यूं ही बरबाद कर दिया इसे यदि किसी गैर के लिए,
तो बनके कांटो की चुभन हर रोज चुभा करते है ।।

4 Likes

बहुत खूब!

1 Like

very nice interesting post
keep going friend :slightly_smiling_face:

1 Like

Good work

Thanks

2 Likes

Thanks Sir

1 Like