ऐ क़लम

तुम साथ रहती हो मेरे और मैं तुमसे बेवफाई करता हूँ,
सामने रहती हो तुम, फिर भी उन्हें देखने की फरियाद करता हूँ,
तुम्हारी वफ़ा को सलाम है मेरा! ऐ क़लम
ये जान कर भी हाथ थामे हो मेरा के तुमसे नही प्यार तो मैं उनसे करता हूँ।

1 Like

Kya baat! :heart:

1 Like

:heart_eyes::heart_eyes::heart_eyes: