प्यार की धूप ढल गई

हिम्मत से सब्र कर,
ईश्वर ने चाहा तो ये दूरियां खत्म हो जानी हैं,
प्यार की धूप ढल गई है,
अब छाया सी शाम ही आनी है।

1 Like

:heart::heart:

1 Like

:heart_eyes::heart_eyes::heart_eyes:

1 Like