अब वो जज़्बात नहीं

सब कुछ वैसा ही है मग़र इक तू पास नहीं है।

अब में जल्दी सो जाता हूं।
क्योंकि जागने की वज़ह और जस्बात नहीं है।

Shah Talib Ahmed

2 Likes

:fire::fire:

1 Like

Thanxxx

1 Like