वो माँ है

वो मां है, सब कुछ कर सकती है
रोज़ सुबह उठ कर, सारा काम कर कर
रोज़ कभी ऑफिस जा कर तो कभी बस,
खुद को घर के काम में रख कर,
रोज़ सबका खयाल रख कर हम सबको संभालती है
वह मां है वो कुछ भी कर सकती है
थकान हो या बीमारी कुछ उसे ना रोक पाता
घर का कोई भी काम उसके बिना ना हो पाता
हर बच्चे को एक सा प्यार देना, हर किसी की हर खावाईश पूरी करना, हर किसी की छोटी छोटी बात को भी याद रखना हुनर नहीं प्यार है उसका
वो मां है वो कुछ भी कर सकती है
ज़िन्दगी की हर कश्मकश में हर किसी को सबसे पहले याद अती है
कभी घर में रह कर, कभी दुनिया से लड़ कर अपनी पहचान भूल जाती है
सबका खयाल रख कर, हर वक्त हर किसी के लिए मौजूद हो कर भी कहीं खो सी जाती है
वो मां है वो कुछ भी कर सकती है
पर इतना सब कर के भी हमसे कुछ उम्मीद नहीं रखती है
कुछ बार बस बिना उम्मीद ही कुछ उसके लिए कर दें
हर बार थोड़ा प्यार हम भी दें लें
क्यूंकि वो मां है, बिना उम्मीद भी सब कुछ कर सकती है।

Aroshee Gandhi

1 Like

Khubsurat. :heart::heart:

1 Like

Shukriya :heart::heart:

1 Like