हम इतना तो कर सकते हैं...!

लोगों के सामने हम चाह कर भी
अपनी गलती कबूल नहीं कर पाते हैं…

अपने एक झूठ को छुपाने के वास्ते
सौ झूठ ओर बोल जाते हैं…

लोगों से अपने झूठ को बचाते - बचाते
हम अपने आप से भी सच न बोल पाते हैं…

"हम इतना तो कर सकते हैं… "
कि, स्वयं से रुबरु तो ले पहले

क्या ये झूठ जरूरी था,
या जरूरी थे रिश्ते-नाते हमारे…

“हम इतना तो कर सकते हैं…”
कि, सच बोल कर रिश्तों को संजो लें पहले…!!

“हम इतना तो कर सकते हैं…”
कि, सच बोल कर रिश्तों को संजो लें पहले…!!
Kittu_ki_diary

2 Likes

bilkul theek kaha tumne
hum sach bolkar sab theek kar sakte hai

ek jhoot kabhi bolna pade, to use chupane ke lie or jhoot bolne padte hai
or wo galat hai’

nice post @Kittukidiary keep writing friend

1 Like

@Ravi_Vashisth जी, शुक्रिया… :pray::innocent:

1 Like

Indeed beautiful

1 Like

@navjyotsingh.rajput शुक्रिया… :innocent::pray:

1 Like