तेरा परचम

सदियों में एक पौधा सींच के पेड़ बना है
फैली हैं जडे मेरी और मजबूत तना है
अगर मुझको उखाडोंगे
तो पूरा बाग उजड् जाएगा
फिर इस बंजर ज़मीन पर
तेरा परचम लेहराएगा

मैं इस चमन का एक हिस्सा नहीं हुँ
बल्कि इस चमन के हर हिस्से में मैं हुँ
मुझे किस किस से तोडोंगे, किस किस से काटोंग
मैं ज़िंदा हूँ कोई गुज़रा किस्सा नहीं हूँ।
अगर मुझको काटोंगे तो पूरा बाग बट जाएगा
फिर इस बंजर ज़मीन पर
तेरा परचम लेहराएंगा।

मैं इस परचम का कोई दाग नहीं हूँ
कुरबानी का रंग हूँ कोई आग नहीं हूंं
मुझको धोलो, निचोडो, चाहे जला दो
अगर मुझको जलाओगे तो ये परचम भी जल जाएगा
फिर इस बंजर ज़मीन पर
किसका पर परचम लेहराएगा।
हमीदा

3 Likes

Wow. :heart:

1 Like

Wow…! Beautiful

Thank you