झूठा प्यार

लबरेज़ अश्कों का धोखा है वो ,
असलियत में ग़मगीन नहीं

मेरी ग़ीबत करती है वो ,
पर ज़माने को उसपर यक़ीन नहीं

लबरेज़ : ऊपर तक भरा हुआ ।
अश्क : आँसू।
ग़ीबत : पीट पीछे बुराई करना।

Shah Talib Ahmed

2 Likes

Bohot hi khub. :heart:

1 Like

bahut hi breya @TALIB_ahmed

1 Like