नींद की निंदा

ज़िन्दगी में मौत की तरह ।
नींद का आना भी लाज़मी है।

मगर कमबख्त देर बहुत लगती है ,
इसकी भूख भी कागज़ी है।

कागज़ी : paperwork.

Shah Talib Ahmed

3 Likes

:clap::clap:

1 Like

:fire::fire:

1 Like