"दुनिया"

दुनिया बहुत खूबसूरत है, बंद आँखो से जब निहारा इसे…

बच्चों में बचपन छाया है, पूजनीय वृद्ध में संस्कारो का साया है…
देख एकता बच्चों की, माँ - बाप ने भी गर्व से मस्तक उठाया है…
समाज की एकजुटता ने भी, जीत का परचम लहराया है…!

         🍁🌿🍁🌿🍁🌿🍁🌿🍁

आँखे खुली तो होश हुआ कि, दुनिया तो एक मोह माया है…

बच्चों में न बचपन छाया है, न पूजनीय वृद्ध में संस्कारों का साया है…
देख खंडता बच्चों की, माँ - बाप ने भी हर बार मस्तक अपना झुकाया है…
न रही समाज में एकता, न जीत का परचम लहराया है…
इस उजड़ी दुनिया ने उच्च स्वपन देखने वाले पर, पागलपन का ठप्पा लगाया है…!!
Kittu_ki_diary

2 Likes

Bilkul sahi kaha aaapne

1 Like

ek dum correct
or kya gazab ka likha tha
bohot hard bohot hard :+1::+1::+1:

@navjyotsingh.rajput जी, शुक्रिया… :innocent::pray:

1 Like