दिल से दिल की राह

दिल की राहो पर चलके तो देखो, देखना कैसे फूलों के बदले काटे मिलते हैं।

कभी मिठास के दो शब्द बोलकर तो देखो, देखना कैसे मिठास के बदले कड़वे शब्द सुनने को मिलते हैं।

कभी मोहब्बत करके तो देखो, देखना कैसे मोहब्बत के बदले बेवफाई देखने को मिलती है।

कभी हंसी के दो पल बिता के तो देखो,देखना कैसे वो हंसी पल आसुओं में बिखरते हैं।

कभी गुलशन की तरह महके तो देखो, देखना कैसे गुलशन के बदले वीरानगी मिलते हैं।

कभी हवा का ठंडा झोंका बनके तो देखो, देखना कैसे उस ठंडे झोंके कि बदले गरम लू झेलने को मिलती है।

और यह जो बातें करते थे हमसफर बनने की ,देखना कैसे उस महबूब के जुबान से कैसे नीम का रस निकलता है।

©kanika sharma

5 Likes

Bohat accha likha hai Apne :ok_hand:

thank u @Thehouseoflekhani

Bohot khubsurat hai Kanika. :heart:

1 Like

thank u @unknown_soul

1 Like

Nice composition mam

1 Like

thank u :slight_smile: @Chauhan

1 Like