ऑनलाइन स्टडी के नुकसान

भारत में COVID-19 महामारी के खिलाफ एक निवारक उपाय के रूप में भारत की संपूर्ण 1.3 बिलियन आबादी के आंदोलन को सीमित करते हुए, 24 मार्च 2020 को, प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में भारत सरकार ने 21 दिनों के लिए देशव्यापी तालाबंदी का आदेश दिया!! यह 22 मार्च को 14 घंटे की स्वैच्छिक सार्वजनिक कर्फ्यू के बाद आदेश दिया गया था, इसके बाद देश के COVID-19 प्रभावित क्षेत्रों में नियमों की एक श्रृंखला लागू की गई थी। लॉकडाउन तब रखा गया था जब भारत में पुष्टि किए गए सकारात्मक कोरोनावायरस मामलों की संख्या लगभग 500 थी। लॉकडाउन ने महामारी की विकास दर को 6 अप्रैल तक बढ़ाकर हर छह दिनों में दोगुना कर दिया था, और 18 अप्रैल तक, हर आठ दिनों में दोगुने की दर से विकास दर बढ़ती जा रही थी, ऐसे में स्कूल कॉलेज वगैरा खोलना असंभव था, मौत को बुलावा देने के बराबर था | तभी स्कूल कॉलेज ने बहुत विचार-विमर्श करने के बाद zoom app “जूम एप “पर ऑनलाइन classes क्लासेज शुरू की| ऑनलाइन क्लासेज बच्चों के भविष्य को अच्छा बनाने के लिए, उन्हें सारे लाइसेंस को अच्छे से समझाने के लिए, शुरू की गई थी परंतु उसमें बहुत सारी कमियां पाई गई| जैसे बच्चों का टेस्ट चीटिंग करके देना ,पेरेंट्स का बच्चों को टेस्ट में हेल्प करना, बच्चों का अध्यापक के साथ अभद्र व्यवहार, अब हम आपको एक सच्ची घटना बताने जा रहे हैं जो अध्यापक के साथ अभद्र व्यवहार संबंधित है ध्यान से पढ़िएगा,” जैसे कि हम जानते हैं कि अध्यापक के लिए भी यह कार्य एक नवीन प्रक्रिया थी, ऑनलाइन स्टडी करवाना हर किसी के लिए आसान नहीं था, ना टीचर के लिए,ना बच्चों के लिए, ना ही पेरेंट्स के लिए, पर फिर भी अध्यापकों ने बहुत सालों से जो काम कर रहे थे जिन्होंने कभी ऑनलाइन स्टडी method ही नहीं समझा था उसको समझने की कोशिश की , उसके according उन्होंने पढ़ाने की कोशिश की , परंतु कुछ बच्चों की शरारते तो इतनी अजीब होती हैं कि उनकी शरारतो को देखते हुए किसी टीचर का पढ़ाने का मन ही ना करें और खास तौर पर अध्यापिकाओं के साथ अभद्र व्यवहार को नजर में रखते हुए कुछ अध्यापकों ने इस्तीफा दे दिया है,” लखनऊ के 16 साल के बच्चे ने टीचर की फोटो का स्क्रीनशॉट लेकर , अभद्र भाषा का प्रयोग करते हुए, उनके फोन नंबर के साथ, अपना नकली इंस्टाग्राम अकाउंट बनाकर,पोस्ट कर दिया | सुबह से लेकर शाम तक, अध्यापक को कई कॉल आने लगे, बहुत से लोग अभद्र अभद्र भाषा में बदतमीजी करने लगे शाम तक तंग आकर अध्यापक ने, साइबर सेल को कंप्लेन की ,बहुत पूछने पर एक फोन कॉल पर अनजान व्यक्ति ने, बताया कि उनका पोस्टर इंस्टाग्राम पर इस********* आईडी पर लगा हुआ है और हमें वही से आपका नंबर भी प्राप्त हुआ है| साइबर सेल वालों ने बहुत सारी इंक्वायरी करने के बाद उन्हें आईपी ऐड्रेस मिला, जिससे पता चला कि वह उनकी क्लास का एक स्टूडेंट है, उस वक्त अध्यापक माता पिता सब अचंभे में आ गए| अध्यापक को इतना तो ज्ञान था कि वह एक शरारती बच्चा है, परंतु इतना ज्ञान नहीं था कि वह इस तरह का कोई अपराध भी कर सकता है , इस अपराध के लिए जितना बच्चा जिम्मेदार है, उतना ही उसके माता-पिता और अध्यापक भी जिम्मेवार है, अगर बच्चे पर पहले ही माता-पिता पूरी नजर रखते तो आज बच्चा इस कदर इतना बड़ा कदम उठाने की गलती ना करता, अध्यापक को भी वस्त्र ऐसे पहनने चाहिए जिससे बच्चों का ध्यान अध्यापक के कपड़ों पर नहीं, अध्यापक की बोल बानी पर स्थित होना चाहिए|"बच्चे अक्सर गलतियां करते हैं परंतु हम गलत कर रही हैं या सही कर रहे हैं यह बताने की जिम्मेवारी माता-पिता और अध्यापक की होती है हम इंसान हैं हम जो आस पास नया देखते हैं उससे प्रभावित होते हैं, परंतु क्या अच्छा है क्या बुरा है यह बच्चों को समझ नहीं होती वह अभी कच्चे घड़े होते हैं उन कच्चे घरों को भरना , पकाना इस सब के लिए जिम्मेवार मात पिता और घर परिवार होता है| माता-पिता से मेरा एक छोटा सा निवेदन है, कि बच्चों के साथ माता-पिता की तौर पर नहीं एक दोस्त की तरह उनसे उनकी हर दिनचर्या को सुनिए और उनके दिमाग में उठ रहे हर सवाल का जवाब देने का कोशिश कीजिए |मानती हूं पैसा कमाना बहुत जरूरी है, परंतु बच्चों से बात करना भी बहुत जरूरी है, आजकल टेक्नोलॉजी की वजह से बच्चों का दिमाग बहुत ज्यादा खराब हो रहा है, ऑनलाइन बच्चे क्या देख रहे हैं, क्या नहीं देख रहे हैं, जब तक हम जानेंगे नहीं, तब तक हम उन्हें सही और गलत की समझ कैसे दे पाएंगे? भावनाओं में बहकर मैंने कुछ गलत लिखा हो तो मुझे माफ कर दीजिएगा परंतु मैं इतना ही कहूंगी ,"कच्ची स्लेट को सवारना है या जिंदगी को उजाड़ना है, माया के पीछे भाग भागकर क्या आपको देश के भविष्य को बिगाड़ना है?

3 Likes

आपका Yoalfaaz पर बहुत बहुत स्वागत है।
कोरोना में बहुत कुछ बदला है,
और इसका बड़ा प्रभाव पढ़ाई पर बहुत पढ़ा है,
आशा करेंगे सब जल्दी पहले सा हो।

आपका संकलन अच्छा है।

1 Like

Watermarks are not allowed Ma’am.
We request you to remove this picture or the watermark.

1 Like

aap bahut hi acha lekhti hai :writing_hand::writing_hand: ese hi lekhte rheye hmare website pai @Sunaina_Atul_Suneja
welcome in yoalfaaz family :bouquet::bouquet::bouquet::bouquet:

1 Like

Well written mam
Welcome to @yoalfaaz family
Keep posting
:smiley::bouquet::heartpulse:

1 Like

Brilliant post, ma’am. :heart:
Welcome to YoAlfaaz, keep posting more. :heart:

1 Like