याद नहीं हो तुम अब हमको

याद नहीं हो तुम अब हमको,
याद न आओ फिर तुम हमको…

था बड़ा पुराना किस्सा वो,
निकाल दिया है आज कहानी से तुमको…

सुनो तुम्हारा नाम था क्या,
अब नाम भी देखो-नहीं याद हमको…

ज़ख्म भर गया सारा का सारा,
चौखट पे आज देखा जो तुमको,

थी शिकायतें बहुत करनी तुमसे,
यू ही माफ़ कर दिया पर हमने तुमको…

याद नहीं हो तुम अब हमको,
देखो याद न आओ फिर तुम हमको…:rat:

-आरोही इनायत

4 Likes

nice :clap::clap::clap: @Arohi_Inayat

1 Like

Beautifully expressed. :heart:

1 Like