मत करना तुम इंतज़ार

मत करना तुम इंतज़ार हमारा,
नहीं मिलूंगा मै तुम्हें दुबारा…

जा रहा हूं किसी के साथ,
तुम भी थाम लेना किसी का हांथ…

याद आए जो कभी हमारी, संभाल लेना खुद ही ख़ुद को.
नहीं आऊंगा लौट के मैं, फ़रियाद न करना मिलने की दुबारा…

आख़िरी ये ख़त है तुमको,
निशानी समझो या जला दो ख़त हमारा…

जा रहा हूं किसी के साथ,
तुम भी थाम लेना किसी का हांथ…:rat:

-आरोही इनायत

4 Likes

Hurting :pleading_face:

So nice to read this
Welcome back again @Arohi_Inayat after a long time. I hope for long connection now onwards :slightly_smiling_face:.

1 Like

Wow, touching. :heart:
Keep posting more, will love to read. :heart:

1 Like

Touching @Arohi_Inayat
Well keep posting
@Arohi_Inayat
Welcome once again to @yoalfaaz

1 Like

Intense.!

1 Like

:broken_heart::broken_heart: @Arohi_Inayat