होते जो तुम साथ हमारे

खत्म अभी तक हुए नहीं, कहे हुए सब बात तुम्हारे,
पलट पलट कर पन्नें सारे, न जाने कितनी रात गुजारे,

लड़ लेता दुनिया से मैं तो, होते जो तुम साथ हमारे,
बिगड़ी थोड़ी बात हमारी, बिगड़े फिर हालात हमारे,

एहसास रह गया हाँथो में, कि हाँथो में है हाँथ तुम्हारे,
भूल ना पाया अब तक मैं, एहसास रह गया बाद तुम्हारे,

लगता नही अब कुछ भी अच्छा, कटते नही अब रात हमारे,
सब अच्छा होता संग मेरे, होते जो तुम साथ हमारे।
:-@adhurmahobat

3 Likes

Nice

1 Like

Thank you :heart_eyes: :heart_eyes:

Beautifully penned. :heart::heart:

1 Like

Thank you @unknown_soul

1 Like