धेर्या

धेर्य के बिना ना खुशी मिले ना मोक्ष,
तो तुम धेर्ये रखो उस पल जब दुनिया तुम्हे नीचा दिखाएगी,
तुम रखो दिल पर हाथ और कहो कि खुशियां जल्दी है आएंगेगी,
तुम ढेर्य रखो उस पल जब कोई तुम्हे समझने वाला ना हो,
ओर करो कुछ ऐसा कि किसी को समझने कि जरूरत ना हो,
मोक्ष के खुशी के लिए बस धेरेया ही काफी है,
ओर तुझे इसके साथ तेरी पहेचान बनानी है।

5 Likes

Nice one! :cherry_blossom:

1 Like

sundar :smiley:

1 Like

Thnks alot :pray:

Thnku :blush::pray:

1 Like