दीदार तेरा।

उनके रुख्सारो की चमक में कमी लगी।
पलको के सायो में नमी लगी।

लो यार मेरा खुद्दार हुआ।
इश्क़ मेरा असरदार हुआ।

चंद दिनों की बात है , मगर ऐसा लगा कि आसरो बाद उनका दीदार हुआ।

कायल तो हम पहले से ही उनकी खूबसूरती के मगर आज फिर उनसे प्यार हुआ।

ख़ामोश थी कलम कई दिनों से।
चलो इसी बहाने फिर से इज़हार हुआ

Shah Talib Ahmed

5 Likes

kya baat hai :clap::clap::clap: @TALIB_ahmed

1 Like

Main to kho hi gyi thi lines me grt lines…:clap::clap::clap:

1 Like

Wah wah :raised_hands::raised_hands:

1 Like

Shukriya shukriya

Bahut bahut shukraan mohtarma

1 Like

Thanks a ton buddy

1 Like