हया के दीदार

उनके सामने होते हुए भी हम आईने से दीदार करते हैं।
पर्दा करती है वो ।
इसलिए इतना एहतराम और ख़याल करते है।

Shah Talib Ahmed

6 Likes

शब्दों का जाल बहुत ही अच्छे से पिरोया है :clap::clap: @TALIB_ahmed

2 Likes

:heart::dizzy:

1 Like

Shukraan

1 Like

Wah kya baat hai…

1 Like