कैसा ये प्यार है?

दिल में जो आज है …
वो मैं कह भी दू तो …
समझ ना सकेंगे वो …

यादों में जो तस्वीर बसी है …
वो कागज पर उतार भी दू तो …
खुद को ही पहचान ना सकेंगे वो …

लब्ज़ों पे जिसका नाम छुपा रखा है …
वो नाम लिख कर बयान कर भी दू तो …
पढ़ ना पायेंगे वो …

आखों में जिसका सपना सजाया है …
उसे हकीकत बना भी दू तो …
स्वीकार ना सकेंगे वो …

चाहत-ए-इश्क का इजहार कर भी दू तो …
इनकार ही कर देंगे वो …

बावजूद इसके …
दिल की हर धड़कन में नाम उनका है …
यादों के हर पल में शामिल वो ही है …
आखों की गहराई में चाहत बस उनकी है …
लब्ज़ों की हंसी में शामिल रुत उनकी है …

कैसा ये प्यार है .?..इकतरफा खुमार है …
पर जो भी है …बेशुमार है …बेमिसाल है।

हाँ, ऐसा ही प्यार है।
-maithilbala

5 Likes

:clap: :clap:

Bohot khub. :heart:

1 Like

Thank you @unknown_soul