लिखो बस यूंही

लिखा करो यूहीं की, शब्द आज़ाद है |

दिल में छुपा कर क्यों बैठे हो,
जब कलम साथ है |

4 Likes

:heart_eyes::heart:

1 Like

:bouquet::heavy_heart_exclamation:

:sunflower::cherry_blossom::heartbeat:

1 Like

:bouquet::heavy_heart_exclamation: