क्या लिखूं?

तेरे नैनो के हक़ीक़त मे क्या लिखू ,
कम पड जायेंगे अल्फाज़ क्या लिखू,

तुझसे बात अब रोज़ होने लगी है मेरी ,
अब रोज़ रोज़ मोहब्बत का करार क्या लिखू ,

और तेरे प्यार मे पूरी किताब लिख सकता हू ,
पन्ने काम पड जायेंगे अब ऐह्सास क्या लिखू ।

तुझसे मिलना तो भगवान कि मर्ज़ी थी ,
तेरा मेरे होने पर क्या लिखू ,

और जब खडी होगी मौत सामने तेरे तो उसको भी
समझा दूँगा , कि अब क्या समझाऊँगा क्या लिखू ।

6 Likes

Bahot sundar :ok_hand::ok_hand::heart: welcome to @yoalfaaz :blush:

1 Like

bohot khoob bhai :clap: :clap:

1 Like

Nice

1 Like

बहोत धन्यवाद भाई :pray:

Bhot khub sir :grin::grin::grin: