माँ ☺️

माँ जिद्दी हूं , पागल हूं , पर जैसी भी हूं तेरी हूं ।।।
तुझसे दूर हूं , पर आज जो भी हूं बस तेरे लिये ही हूं ।।

याद है मुझे ,जब तेरी नाम के अलाबा
कुछ जानती ही नहीं मैं,
ज़िन्दगी जीने का तरीका तुझ से सीखी हूं ।।।
माँ मैं जीबन भर केलिये तेरी ऋणी हूं,

लिख ने बैठूं तो सायद कागज़ ही कम पड़ जाये
भगबान को तो नहीं देखी मैं, बस तुझे देखी हूं ।।

5 Likes

Maa :heartpulse::slight_smile:
@Rimmu_Ridhusni
Nice

Lovely… :blossom::dizzy::wilted_flower:

1 Like

:heart::heart:

1 Like