ये पैसा है कैसा

उससे ही सबकी औकात होती है, कागज़ की भी ज़ात होती है
मंदिर में दी हो तो दक्षिणा, बाहर वही खैरात होती है

-588_78826

3 Likes

Bohot khub… :black_heart: