शाम का ख़्याल

आज की शाम एक ख़्याल आया

किसी रोज़ जिनकी झलक का इंतज़ार किया करते थे
आज वो हमारे घर की शोभा बढ़ा रही है :slightly_smiling_face:

5 Likes

:grinning::heart:

1 Like

Nicely written sir
:grinning::joy:

1 Like

Arey wah…
Kya bat hai.

1 Like

Thanks :blush:

Thank you :slightly_smiling_face:

1 Like

Thanks a lot :slight_smile: