जिंदगी में तन्हाई...!

serious
sad
poem
quotation
#1

जिंदगी में तन्हाई कुछ इस कदर है छायी,
दुनिया की भीड़ में, जैसे अकेलेपन की परछायी…!

माँ है, पिता है,
भाई है, है बहन भी,
पर ऐसा कोई नहीं जिसको दे हमारी आवाज सुनायी…!

चाचा है, चाची है,
बुआ है, है फूफा जी भी,
पर ऐसा कोई नहीं जिसने कभी हमे समझने की इच्छा जतायी…!

दोस्ती लड़कियों से है,
दोस्ती है लड़को से भी,
पर उनको कभी अपने जहन की बात सुना ना पायी…!!
Kittu_ki_diary

3 Likes

#2

A lot things revolve in our minds of which some are which can not be shared with someone or sometimes with anyone. The fear of our mind and heart keeps us alone and sided from the world and we just remain in ourselves.
Very nice post
i liked reading it and it’s interesting
Keep writing my friend @Kittukidiary and sharing your interest

1 Like

#3

Bohot khoob, very well written…

1 Like

#4

@thegurjyot thank you… :pray::innocent:

1 Like

#5

@Ravi_Vashisth thank you for support me… :pray::innocent:

1 Like