वबा (महामारी)

ना जाने कहां से चलकर तेरे दर तक आएगी…
वबा फैली है, तो मुमकिन है कि शहर तक आएगी…

कुछ दिन घर में रह लो, ऐ सफर के दिवानो…
आज ना संभले तो ये बला अपने घर तक आएगी…

©Mukhtalif

4 Likes

Nicely written @Mukhtalif
Welcome to @yoalfaaz
Expecting more writings on future

1 Like

Welcome to YoAlfaaz family :blush:

1 Like

Thanks @Adithyan_ks . I’ll try my best.

1 Like

Thanks @parmesh_chavan

1 Like