गुनाह ए इश्क़

लगता है फिर से दिल , लगाने की वकालत हो रही है
यु ही नहीं मेरे दिल में भी सियासत हो रही है

महफिलों से रिश्ता मेरा , अब नाजायज़ हो रहा है
तेरी तन्हाईयों से कुछ इस तरह , रफ़ाक़त हो रही है

तुम्हारी आंखों का वो , डर मुझे सुकून दे रहा है
जब छोड़ जायेंगे कहके , तेरे दिल में क़यामत हो रही है

तुम्हें जीतना है मगर , तुमसे जीता नहीं जा रहा है
तुमसे लड़ाई में हारकर , दिल को फिर से चाहत हो रही है

दिल की धड़कन जपती रहती है , नाम तुम्हारा
रब की गैर-मौजूदगी में , तुम्हारी इबादत हो रही है

तुम करते हो शरारत और , मुस्कुरा हम देते हैं
तेरी नादानियां बिसराते हुए तुमसे मोहब्बत हो रही है

डर किसी अंजाम का , अब बेअसर हो रहा है
दिमाग़ की दिल से , यूं बगावत हो रही है

यूं जिन्दगी खुशगवार है , तेरे एहसासों के साथ
कि हवा भी सांस बन जाए , वो रूहानियत हो रही है

ना देखा करो मुझे तुम , निगाहों में मोहब्बत भरके
मेरे लब तो खामोश है ‌मगर , दिल में क़यामत हो रही है

अब दिन-रात ,नींद-चैन ,सब तुम्हारे ही नाम है
मेरी सांसों से ज्यादा , तेरे ख्वाबों की हिफाज़त हो रही है

तुम्हें पाने की जुस्तजू में , भुला बैठे हैं सबकुछ ही
कि अब हमारी ही किस्मत की हमसे अदावत हो रही है

रफ़ाक़त-: दोस्ती
अदावत-: दुश्मनी
बिसरा-: भुला

5 Likes

I really liked the way you formed sentences :blush::+1:

1 Like

Thank you :blush:

1 Like

Behad hi khoob :heart::four_leaf_clover::sparkles:

1 Like

Thanks :blush: