आज का चैलेंज - निगाहें

आज के चैलेंज के लिए आपके सामने वाक्य है.

निगाहें

इस्पे अपने विचार लिखिए और सबके साथ मिलकर अपने प्यार को जस्बातो में दिखाए.

Write your original lines as a reply to the Shayari written above.
Per person, only one reply is allowed. Reply with maximum likes will win. This challenge will end at midnight next Saturday.

4 Likes

This post was flagged by the community and is temporarily hidden.

निगाहे ही इश्क़ की वजह होती है ,

किसी से मिल जाये तो प्यार
और झुक जाए तो इज़हार होता है,

खंजर सिर्फ शरीर चिरता है
पर ये निगाहो का वार दिल पे होता है ,

बिना लफ़्ज़ों के दिल की बात कह जाती है
मज़ाक मज़ाक में गुस्ताकिया कर जाती है ,

प्यार में तड़पता तो दिल है
मगर सारा मसला निगाहें ही शुरू करती है ।

1 Like