ख़्वाबों का शहर

ख्वाबों के शहर में
कोई अपना नहीं होता
वहां सब आते है
अपना ख्वाब पूरा करने को
और फिर ख्वाब पूरे होते ही
चले जाते है अपने शहर

1 Like