नया मैं..._

ए खुदा,
मुझे जब भी ऊंचाई दे,
बस इतना करना,
मुझको जमीं भी दिखाई दे…

एक सदा ऐसी भी हो,
मुझको सब साफ़ सुनाई दे…

दूर रहूं मैं अब सब से,
मुझको वो तन्हाई दे…

एक खुदी भी मुझमें हो,
मुझको वो भी ख़ुदाई दे…

ख़ुद को देखूं रोज़ नया,

वो बिता कल ना दिखाई दे…

3 Likes

Nice one :blush:

1 Like

Nice yaar nice
Mast ek dum :ok_hand:

1 Like

Ty @Wordsbyritti… Ji…

Ty @Ravi_Vashisth…ji…

1 Like