मैं चाहूं

मैं चाहूं तो मिटा दूं इस बेरहम दुनिया को
कमबख्त मुझे दुनिया सताती बहोत है
चाहकर भी मग़र मैं ये कर नहीं सकता
दुनिया से मोहब्बत महबूब को बहोत है

2 Likes

Kya baat… :blush::sweat_smile::blue_heart:

शुक्रिया मैम