मेरे लिए तू ही काफी है

चांद को रेहने दो आसमां में
मेरे लिए तो तू ही काफी है
खामखां चांद तारो को
क्यू ज़मीं में लाना

1 Like