मेरे लिए तू भी

मेरे लिए तू
वही चांद बन गई
जो दिन के उजाले में
नजर नहीं आती

6 Likes

nice one…

1 Like

Thank u sir

1 Like

matlab gayab hi ho gyi :joy:

1 Like

Nahi gayab to nahi keh sakte
bas hokar v nahi hai

1 Like