मौत से क्या डर

मौत से भी ना लगने लगा है डर
जिंदगी बदली कुछ इस कदर
नहीं लगा सच पर ये सच था
बिखरा हू जैसे टुकड़ा हो कांच का

1 Like