खुद की अब खुद

खुद की अब खुद ही सुनता हू
उसके मिलने की अब
रब से फरियाद करता हू
क्यू दूर किया उसे
जो थे मेरे अपने
देखें थे कुछ सपने
देखें थे कुछ सपने

1 Like