मेरे ख्वाब

मेरे ख़्वाब कुछ ऐसे हैं
कि तुम्हें अपने दिल में बसाना है
तुम्हें अपनी सांसों में छिपाना है
तुम्हें बुरी निगाहों से बचाना है
तुम्हें सच्ची मुहब्बत बनाना है
ये ख्वाब नहीं है हक़ीक़त है
तुम्हें अपनी जिंदगी में लाना है

2 Likes