चंद लम्हों के लिए

वक़्त ऐसा भी आएगा एक दिन तू भी मेरे दर्द को समझेगी
जितना तूने मुझे तड़पाया है किसी दिन तो तू भी तड़पेगी
मैं तो मुसाफ़िर हूं इस दुनिया में चंद लम्हों के लिए ए सनम
ये मर जाने के बाद मेरे तू सब समझेगी

3 Likes