पहली मुहब्बत है वो

नहीं है वक़्त मेरे महबूब के पास ए ख़ुदा
कुछ तो उसको हमदर्दी ओ रहनुमाई दो
पहली मुहब्बत है वो मेरी ए दुनिया वालों
कुछ दीवानगी तुम्हीं उसके दिल में बढ़ा दो

2 Likes