ख़ैराते -भीख

अपनी फ़िकर का इतना भी ज़िक्र ठीक नहीं।

इज़्ज़त मिलने तक सही।
मगर ख़ैराते और भीख नहीं।

3 Likes