सच्चा आशिक़

झूठी मुहब्बत का एतबार हर शख्स कर लेता है
हो मुहब्बत ग़र सच्ची तो वार भी कर लेता है
ये मालूम नहीं है जमाने को शायर ए ग़ालिब
मुहब्बत में आशिक क़ायनात बदल देता है

5 Likes

Kya baat kahi

Awesome…

bohot khoob…