फरमान!

फरमान !

ये एहसान मुझे अब जताना है ,
मुझे तुमसे इश्क़ फरमाना है,
बातें बहुत सी मुझको करनी है,
तुम्हे अपना जो बनाना है,

तुम्हे कविता में सजाना है ,
फिर इतिहास कुछ धौरान है,
सुनो !
आज तुमसे कुछ बताना है,

आशाओं का मंज़र सनझोना है,
फिर आशिक़ आज बन जाना है,

दीदार कुछ फरमान है,
कुछ किस्सों को धौरान है,
दिलदार आज बन जाना है,
तुम्हे आंखों में सजाना है,

तलवार कलम अब चलाना है,
मुझे इस जग आज लड़ जाना है,
यकीन मानो …
मुझे तुमसे इश्क़ फरमान है,

यादें मैंने कुछ बटोरी हैं ,
उन यादों में तुम्हे बसाना है ,
सिलसिले बड़े छोटे है,
लेकिन सिलसिला आज कुछ बनाना है,

आज तुम मेरी बन जाओ,
जग देखे मेरी दीवानगी को,
ऐसा कुछ कर जाना है ,

मुझे तुमसे इश्क़ फरमाना है,
और तुझमें ही बस जाना है ,
ये एहसान मुझे अब जताना है ,
की मुझे तुमसे इश्क़ फरमाना है,

  • जुपिटर
    @competition
5 Likes

Wazah… Bht hi umda bhAiii

1 Like

Loved it…
Behad khoob :two_hearts:

1 Like

Behad shukriya :bouquet::bouquet::bouquet:

kya khoobsurat farman hai mere dost :clap: :clap: :clap:

1 Like

Behad shukriya :bouquet:

1 Like

Shukriya :bouquet::bouquet:

1 Like

Fabulous :ok_hand::ok_hand::ok_hand:
Loved it :orange_heart:

1 Like

Bahut shukriya :bouquet::bouquet::bouquet:

2 Likes