दिल्लगी से

जगह नहीं और बाकी अब यूँ तेरे रूठ जाने के बाद
ये मुहब्बत का घर है माहिर जो दिल्लगी से बसा है

2 Likes

:heart::heart: