कहां चले गए

ना जाने वो कहां चले गए हैं
मेरी बेइंतिहा मुहब्बत को ठुकरा कर
कोई तो कमी हो गई होगी
मेरी मुहब्बत में शायर ए ग़ालिब

3 Likes

Kami to usne thi,
Jo uske Naseeb me tum nhi.

Thank you mam