आपका चेहरा

ना जाने क्यों आपसे मिलने को दिल चाहता है
बेखुमारी में भी खुमार नज़र आता है
बेक़रार हो गयी हैं आंखें मेरी दीदार को आपके
सुकून पाने के लिए नज़रें बंद करता हूं
तो आपका ही चेहरा नज़र आता है

2 Likes

Nice nice