तेरा फितूर

तेरा फितूर क्या चढ़ा मुझ पर
नींद आँखों से ख़फ़ा हो गयी

ये दुनिया हमारे लिए पराई अब हो गयी,
तेरा हाथ क्या पकड़ा जैसे क़ायनात हमारे साथ होगयी,

तेरे आने से ज़िन्दगी ने कुछ इस तरह करवट ली
हर सुबह खूबसूरत और श्यामे हसीन हो गयी ,

तुझे तरूक जो हुआ मानो
अच्छे वक़्त से दोस्ती ही हो गयी ।

4 Likes

bohot khoob likha hai… :+1:

@thegurjyot thank you

1 Like

वाह क्या बात है

You Made The Difference! :clap: :clap: :clap:

Thank you

Thank you sir

1 Like