दीदार की हसरत

नहीं है दीदार की कोई हसरत बाक़ी अब
जो चले गए हैं यूं वीरान छोड़कर दिल को
अब तो आदत है मुझको अकेलेपन की
जो चले गए हैं यूं वीरान छोड़कर दिल को

3 Likes

Well penned .!!

Great!

Nice! :blush: