एक आम आदमी का ख्वाब

हर इंसान की आँखों में बसा एक ख्वाब है
जिसे वो हकीकत में जीने को बेताब है
कही सामने की साजिश है तो
कही ज़िमेदारियो निभानी है
दुसरो के दिखाए रास्ते पे चलते है
खुद से न जाने कैसी सी नाराज़गी है ।

4 Likes

You Should Be Proud! of yourself

@Ravi_Vashisth Thank you sir

1 Like

Nice one :two_hearts:

@Wordsbyritti thank you

Waah ji :ok_hand:

@Chandhana thank you

1 Like