अश्क का चादर

मैं अपने अश्क का चादर कहाँ पे बिछाऊँ;
सोचती हूँ…कल फिर एक दफा दरगाह हो आऊँ।।

3 Likes

Uski nagri Mai kafi sukoon hai

2 Likes

beautifully penned…

1 Like