मुसाफिर

बस इस क़दर ज़िन्दगी से कर्ज ले रहा हूं।।
मंज़िल दूर है मुसाफिर मै सफ़र भी दूर कर रहा हूं।।
:heavy_heart_exclamation::heavy_heart_exclamation:
मिश्रा जी

4 Likes

:heart::heart:

1 Like

You’re Inspiring!

1 Like