ख्याल

वक़्त की नज़ाकत है, कहीं नज़ाकत से वक़्त चल रहा है
शामियानों के तले आज अंधेरा भी संभल रहा है
गुजर चुके हैं जज़्बात सारे हर किसी के ख्याल से भी
मेरा मन फज़ूल की बातें सोच अभी भी मचल रहा है

2 Likes

Nice … :yellow_heart:

1 Like

@Wordsbyritti thank you